गोबर से पेंट बनाने की फैक्ट्री , how to start cow dung paint business Factory

गोबर से पेंट बनाने की फैक्ट्री देश के हर गांव में गोबर से पेंट बनाने की फैक्ट्री (goabar paint training factory ) ! खुलवाने की तैयारी में एमएसएमई मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) जुटे हुए हैं ! इसके लिए उनका सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम मंत्रालय खास प्लान तैयार करने में जुटा है ! गोबर से पेंट बनाने के लिए एक फैक्ट्री (Paint making from cow dung factory) खोलने में 15 लाख रुपये का खर्च आ रहा है ! मंत्रालय का मानना है ! कि केंद्रीय मंत्री गडकरी का सपना साकार हुआ तो हर गांव में रोजगार (Employment in villages) के अवसर उपलब्ध होने से ! शहरों की तरफ पलायन की समस्या खत्म होगी !

How start cow dung paint factory , Cow dung paint manufacturing machine , गोबर से पेंट बनाने की मशीन , cow dung paint manufacturing machine

GOABAR PAINT FACTORY

गाय-भैंस जैसे जानवरों का गोबर (Dung) कई तरह इस्तेमाल होता है ! गाँवों में लोग वर्मी कम्पोस्ट या खाद बनाकर खेतों में डालते हैं ! उपले भी बना लिए जाते हैं, लेकिन इसके बाद भी बहुत बड़ी मात्रा में गोबर बर्बाद हो जाता है ! जबकि गोबर का कई और तरीकों से इस्तेमाल कर कमाई भी की जा सकती है ! देश में अब ऐसा होने की पूरी संभावना है ! गोबर की खपत के लिए हर गाँव में फैक्ट्री (goabar paint factory ) खुलेगी. ये फैक्ट्री पेंट (Cow Dung Paint Factory) बनाने को होगी ! पेंट गोबर से बनाया जाएगा, जिसे गोबर पेंट (Gobar Paint) कहा जाएगा !

गोबर से पेंट बनाने की कैसे ले ट्रेनिंग

गोबर से पेंट बनाने के लिए सरकार पांच से सात दिनों की ट्रेनिंग देती है ! सरकार का ज्यादा ध्यान भी ट्रेनिंग सुविधा बढ़ाने पर है ! इससे अधिकतम लोग ट्रेनिंग लेकर गोबर से पेंट बनाने की फैक्ट्री खोल सकेंगे ! यदि हर गांव में फैक्ट्री खुले (goabar paint factory ) तो रोजगार के भरपूर अवसर बनेंगे ! इस पेंट को भारतीय मानक ब्यूरो द्वारा प्रमाणित किया गया है ! अच्छी बात ये है कि पेंट में गंध भी नहीं है !

how to make paint paper soap and biogas from cow dung tranining

गोबर पेंट क्या और कैसा होता हैं

गाय के गोबर बना ये पेंट दो वेरिएंट में उपलब्ध है ! इनमें डिस्टेंपर और प्लास्टिक इम्लशन शामिल है ! इनकी कीमत क्रमश: 120 रु और 225 रु है ! इतनी कीमत मार्केट में उपलब्ध बाकी पेंटों की तुलना में काफी कम है ! इस पेंट में सीसा, पारा, क्रोमियम, आर्सेनिक और कैडमियम जैसी भारी धातुओं का इस्तेमाल नहीं किया गया है ! इससे यह पेंट बिल्कुल भी नुकसान नहीं देगा !

गोबर पेंट बनाने पर कितनी होगी कमाई (EARNING FROM GOABAR PAINT FACTORY )

खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग के अधिकारियों के मुताबिक, सिर्फ एक मवेशी के गोबर से कमाई किसान हर साल 30 हजार रुपये कमाएंगे !

एमएसएमई मिनिस्ट्री के एक अधिकारी ने बताया, केंद्रीय मंत्री गडकरी ने पिछले साल मार्च 2020 से ! गोबर से पेंट बनाने के लिए खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग को प्रेरित किया था ! आखिरकार, खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग (केवीआईसी) की जयपुर में स्थित यूनिट ! कुमारप्पा नेशनल हैंडमेड पेपर इंस्टीट्यूट ने इस तरह के अनोखे पेंट को तैयार करने में सफलता हासिल की ! इस पेंट में सीसा, पारा, क्रोमियम, आर्सेनिक, कैडमियम जैसे भारी धातुओं का असर नहीं है !

गोबर पेंट के लाभ

  • Eco-friendly
  • Anti-bacterial
  • Anti-fungal
  • Non-toxic
  • Odorless
  • Free from heavy metals
  • Natural thermal insulator
  • Cost-effective
  • Note: Khadi Prakritik Paint contains negligible Volatile Organic Compounds (VOC).This causes extremely low vaporization of VOCs and prevents irritation to eyes.

HOW TO APPLY GOABAR PAINT FACTORY

अगर गोबर फैक्ट्री लगाना चाहते हैं तो इसके लिए उद्योग मंत्रालय इसकी रूपरेखा बनाने में लगा है ! इसके तहत आप अप्लाई (How To Apply Cow Dung Paint Factory) कर सकते हैं !

Gobar paint official website https://www.udyami.org.in

दोस्तों हमारा यह आर्टिकल gobar se paint ki factory kaise lagaye आपको कैसा लगा हमें नीचे कमेंट करके जरूर बताए तथा यदि हमारे इस आर्टिकल से संबंधित आपके मन में कोई प्रश्न है तो हमें नीचे कमेंट करके जरूर बताएं। 


यदि आप हमारे इस आर्टिकल से संबंधित हमें कोई सुझाव देना चाहते हैं या आप हमसे बात बात करना चाहते हैं तो हमें नीचे कमेंट करके जरूर बताएं, मुझे आपके फीडबैक का इंतजार रहेगा। 
अगर हमारा यह आर्टिकल  gobar se paint ki factory kaise lagaye आपको अच्छा लगा हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ तथा सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर भी शेयर करें (धन्यवाद)

3 thoughts on “गोबर से पेंट बनाने की फैक्ट्री , how to start cow dung paint business Factory”

Leave a Comment