मछली पालन का व्यवसाय कैसे शुरू करें? यहां जानें Fish Farming Business In Hindi

fish farming business plan in hindi: मछली उत्पादन में भारत दूसरे स्थान पर है। भारत में मछली पालन (Fishery) कृषि से जुड़ा एक प्रमुख व्यवसाय है। हमारे देश में दिन-प्रतिदिन मछली का सेवन करने वाले लोगों की संख्या बढ़ रही है। यही कारण है कि मछली पालन (Machli palan Business) बिजनेस में ने खूब रुचि दिखाई है। यह बिजनेस नए कृषि व्यवसाय के रूप में उभरा है। आजकल किसान मछली पालन (Machli palan) में काफी आगे बढ़ रहे हैं। क्योंकि इस बिजनेस में बहुत ज्यादा मेहनत करने की जरूरत नहीं पड़ती है। मछली पालन से किसानों को ज्यादा मुनाफा भी मिलता है। 

तो आइए, द रूरल इंडिया के इस ब्लॉग में जानें- मछली पालन का व्यवसाय कैसे शुरू करें? (fish farming business plan in hindi)

इस लेख में आप जानेंगे-

  • मछली पालन कैसे शुरू करें
  • मछली पालन करने के लिए सही जगह का चयन
  • तालाब का निर्माण कैसे करें
  • मछलियों के लिए चारे की व्यवस्था
  • मछलियों के फीड के प्रकार
  • मछलियों को कृत्रिम फीड कैसे दें
  • मछली पालन के लिए उन्नत प्रजातियां
  • मछलियां को होने वाले रोग और रोकथाम
  • मछली पालन के कुछ टिप्स
  • मछली पालन में निवेश
  • मछली पालन मुनाफा

मछली पालन कैसे शुरू करें (Machli palan in hindi)

मछली पालन शुरू करने के लिए आपको कुछ जरूरी चीजों का  ध्यान रखना बेहद जरूरी है। मछली पालन (Machli palan) के लिए आपको सबसे पहले मछलियों को रखने के लिए तालाब या टैंक की व्यवस्था करनी होगी। इसके बाद मछलियों के चारे की उपयुक्त व्यवस्था करनी चाहिए। मछली पालन करने के लिए आपको उन्नत प्रजातियों का चयन कर लेना चाहिए। 

मछली पालन के लिए जगह का चयन

किसी भी काम के लिए सबसे पहले उपयुक्त स्थान का चयन करना सबसे जरूरी होता है। इसलिए मछली पालन के लिए भी सही जगह का चुनाव करना अति आवश्यक है। मछली पालन के लिए अगर आप तालाब की व्यवस्था करना चाहते हैं तो ऐसे जगह का चुनाव करें। जो बाढ़ से पीड़ित ना हो। खास तौर पर ऐसी जगह कि चुनाव करने का कोशिश करें जहां मिट्टी दोमट और चिकनी हो। इसके अलावा आपने जहां भी मछली पालन की व्यवस्था की हो वहां पर धूप और पानी की व्यवस्था होनी चाहिए। अगर आपकी जमीन खुद की है तो आप तालाब खुदवा सकते हैं। लेकिन आपके पास बहुत ज्यादा जमीन नहीं है तो आप टैंक में भी मछली पालन कर सकते हैं।

तालाब का निर्माण कैसे करें

अगर आप मछली पालन के लिए तालाब का निर्माण करना चाहते हैं तो ध्यान रहे कि तालाब को समय-समय पर साफ करते रहे। ऐसे जीवो को हमेशा निकालें जो मछली को खाते हो। इसके अलावा जलीय पौधों को भी तालाब में से समय-समय पर साफ करते रहे। समय-समय पर अपने तालाब के जल की पीएच मान की जांच करवाते रहें। जिससे तालाब में रहने वाली मछलियों को हानि ना हो।

मछलियों के लिए फीड(चारे) की व्यवस्था

अलग-अलग प्रजाति की मछलियों को अलग-अलग विशेष खुराक दिए जाते है। मछलियों की खुराक तैयार करने के लिए चावल की भूसी और सरसों का खल प्रयोग किया जाता है। अगर आप समुचित मात्रा में मछलियों की खुराक तैयार करना चाहते हैं तो दोनों पदार्थों को सामान अनुपात में मिला लें। खास तौर पर ग्रास कार्प मछली को अतिरिक्त भोजन के रूप में हाइड्रिला, वैलिसनेरिया, अन्य जलीय पौधे और बरसीम दी जाती है।

मछलियों के फीड(Feed) के प्रकार

पूरक फीड

यदि आप मछलियों को सिर्फ प्राकृतिक फीड देते हैं तो यह आपकी मछलियों सम्पूर्ण पोषण नहीं मिल पाता है। मछलियों के अच्छे उत्पादन के लिए आपको इन्हें पूरक फीड देना होगा। पूरक फीड में अमीनो एसिड की मात्रा उचित होनी चाहिए। पूरक फीड में कम से कम 35% प्रोटीन होना चाहिए और मछली की पूरक फीड में 10.5% कार्बोहाइड्रेट भी होना चाहिए।

प्राकृतिक फीड

प्राकृतिक फीड का उत्पादन मिट्टी की गुणवत्ता और तालाब के पानी की गुणवत्तापर निर्भर करता है। आप तालाब में प्राकृतिक फीड के उत्पादन को बढ़ाने के लिए उर्वकों का प्रयोग कर सकते है। तालाब में विभिन्न प्रकार के प्राकृतिक फीड होते है जैसे शैवाल, फाइटोप्लांकटन, जोप्लैंक्टोन, आदि। फाइटोप्लांकटन विभिन्न मछली प्रजातियों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण प्राकृतिक फीड होता है। जोप्लैंक्टोन भी मछलियों के लिए यह बहुत ही अच्छा फीड होता है। मछली के प्राकृतिक फीड के अच्छे उत्पादन के लिए आप तालाब में जैविक या अजैविक उर्वरकों का उपयोग कर सकते है।

मछलियों को कृत्रिम फीड कैसे दें

कृत्रिम विधि से बनाई गई खुराक को मछलियों को प्रतिदिन समय के अनुसार सुबह तालाब में कुल उपलब्ध मछली स्टाक के वजन का कम से कम 1 प्रतिशत और अधिक से अधिक 5 प्रतिशत की दर से देना चाहिए।

मछली पालन के लिए  उन्नत प्रजातियां

  • सिल्वर कार्प
  • तिलापिया
  • ग्रास कार्प
  • रोहू
  • पंगास
  • कतला
  • कॉमन कार्प

मछली पालन करने में निवेश

अगर आप मछली पालन करना चाहते हैं तो आप अपने अनुसार छोटे या बड़े पैमाने पर मछली पालन कर सकते हैं। अगर आप बड़े पैमाने पर मछली पालन करते हैं तो आपको थोड़ी ज्यादा लागत लगाने की जरूरत पड़ेगी। आपको इस व्यवस्था में मछलियों के रहने और खाने की व्यवस्था करनी होगी

मछली पालन से होने वाला मुनाफा

बाजार में मछली की मांग दिन पर दिन बढ़ती जा रही है। अगर आप अच्छे से मछली पालन करते हैं दो आप महीनों में लाखों का मुनाफा कमा सकते हैं यह आपके ऊपर निर्भर करता है कि आप जैसा मछलियों को फिर करेंगे और जिन पर जातियों की मछलियां रखेंगे वैसा ही आपको मुनाफा भी होगा।

मछली पालन के लिए कुछ टिप्स (tips for fishing)

  • मछलियों को उपयुक्त आहार की व्यवस्था करें
  • मछलियों के तालाब में रासायनिक चीजों का अधिक छिड़काव ना करें
  • नियमित रूप से तालाब की साफ सफाई का ध्यान देते रहें
  • मछली पालन करते हैं तो समय-समय पर मिट्टी और जल दोनों की जांच करवाते रहें
  • तालाब में से अन्य जलीय जीवों को निकल दें
  • मछलियों के आहार के लिए अपनी तरफ से फीड देने के अलावा जलीय पौधे भी लगाएं
  • मछलियों के लिए उर्वरक का इस्तेमाल करने के बाद 15 दिन के लिए स्टॉक करें

ये तो थी, मछली पालन का व्यवसाय कैसे शुरू करें? (fish farming business plan in hindi) की जानकारी। यदि आप इसी तरह कृषि, मशीनीकरण, सरकारी योजना, बिजनेस आइडिया और ग्रामीण विकास की जानकारी चाहते हैं तो अन्य लेख जरूर पढ़ें। दूसरों को भी पढ़ने के लिए फेसबुक, ट्विटर जैसे सोशल मीडिया पर शेयर करें।

Leave a Comment